Translate

बुधवार, 19 सितंबर 2012

कालेज का बचुआ (College ka bachua by Nirala)



जब से  एफ. ए. फेल हुआ,
हमारा कालेज का बचुआ l 
                
                 नाक  दाबकर  सम्पुट साधै,
                 महादेवजी    को    आराधै,
                 भंग  छानकर रोज़ रात को
                             खाना मालपुआ l

                वाल्मीकि   को  बाबा  मानै,
                नाना   व्यासदेव  को   जानै,
                चाचा  महिषासुर  को, दुर्गा
                            जी को सगी बुआ l

                 हिन्दी का लिक्खाड़ बड़ा वह,
                 जब देखो  तब अड़ा पड़ा वह,
                 छायावाद    रहस्यवाद     के
                               भावों का बटुआ l

                  धीरे-धीरे   रगड़-रगड़   कर
                  श्रीगणेश से झगड़-झगड़ कर,
                  नत्थाराम  बन  गया  है अब
                               पहले का नथुआ l

                  हमारे  कालेज  का  बचुआ l



कवि - निराला
संग्रह - असंकलित कविताएँ : सूर्यकांत त्रिपाठी निराला में 
रामविलास शर्मा की 'निराला की साहित्य साधना - 1' से 
संपादक - नन्दकिशोर नवल 
प्रकाशक - राजकमल प्रकाशन, दिल्ली, 1981

किताब की भूमिका के मुताबिक डॉ. रामविलास शर्मा ने जो विवरण दिया है उससे लगता है कि 'कालेज का बचुआ' कविता " 'सुधा' में निकली थी, जब निराला उसमें काम करने लगे थे और वह आचार्य रामचन्द्र शुक्ल पर निराला पर उनके द्वारा किये जानेवाले आक्षेपों के उत्तर में लिखी गयी थी. डॉ. शर्मा ने इस कविता का शीर्षक नहीं दिया है."

2 टिप्‍पणियां:

  1. apne samay me aacharya shukla jaisi shakhsiyat ko vyangya ki dhar par la kar unke mool sarokaron ka digdarshan karati, apne bade aalochak ko lekhak ke dwara katghare me khadi karti aur satta vimarsh ko saaf karti kavita hai yah. Naval ji ne badi mehnat se hamare priya NIRALA ko hamare saamne la khada kiya poori samagrata men. nirala to AMAR hain hi, NAVAL ji bhi Hamesha Yaad kiye jayenge. Unhen ISHWAR lambi umra de Nirala par abhi Kaam baki hai aur unki baat joh raha hai.

    उत्तर देंहटाएं
  2. yah kavita apne samay ke bade aalochak ke prati ek bade kavi ki tippani hai jo aalochak ki drishti ko aparyapt manti hai. vyangya ka javab vyangya se diya gaya hai.nirala par aacharya shukla ne kavitvapoorna vyangya kiye the. Mukta chhand ko rabad aur kenchua chhand kaha tha.unhin ki shaili men unko karara jawab deti kavita hai yah jo ek aalochak ke sampoorna vivek aur uski yogyata, pratibha ko chunauti deti hai.

    उत्तर देंहटाएं