Translate

सोमवार, 5 नवंबर 2012

मोह (Moh by Sumitranandan Pant)



छोड़ द्रुमों की मृदु छाया,
तोड़ प्रकृति से भी माया,
     बाले ! तेरे बाल-जाल में कैसे उलझा दूँ लोचन ?
                              भूल अभी से इस जग को !

तज कर तरल तरंगों को,
इन्द्रधनुष के रंगों को,
      तेरे भ्रूभंगों से कैसे बिंधवा दूँ निज मृग-सा मन ?
                                भूल अभी से इस जग को !

कोयल का वह कोमल बोल,
मधुकर की वीणा अनमोल,
       कह, तब तेरे ही प्रिय स्वर से कैसे भर लूँ, सजनि, श्रवण ?
                                             भूल अभी से इस जग को !

ऊषा-सस्मित किसलय-दल,
सुधा-रश्मि से उतरा जल,
           ना, अधरामृत ही के मद में कैसे बहला दूँ जीवन ?
                                       भूल अभी से इस जग को !
                                                        
                                                                      (1918)


कवि - सुमित्रानंदन पन्त 
संकलन - आधुनिक कवि 
प्रकाशक - हिन्दी साहित्य सम्मलेन, प्रयाग, 1994 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें