Translate

गुरुवार, 13 दिसंबर 2012

बीती बात भुला लेने दो (Beetee baat bhula lene do by Ramgopal Sharma 'Rudra'


बीती बात भुला लेने दो !

          मैं लूँ समझ कि सब सपना था,
          जो कुछ था, भ्रम-भर अपना था ;
          इस रस में क्या स्वाद मिलेगा ?
                            मन को और घुला लेने दो !


          ठंडी तो हो ही जाएँगी,
          बादल बन जब ये छाएँगी,
          कुछ दिन तो तल की ज्वाला में
                            चाहों को अकुला लेने दो !

          इतने तड़के आज पधारे !
          जाग रहे जब दीये-तारे ;
          ठहरोगे ? ठहरो, आँखों की
                             गीली धूल धुला लेने दो !
                              
                          (1944)


कवि - रामगोपाल शर्मा 'रुद्र'
किताब - रुद्र समग्र 
संपादक - नंदकिशोर नवल 
प्रकाशक - राधाकृष्ण प्रकाशन, दिल्ली, 1991

1 टिप्पणी:

  1. biti baton ka madhur dastak itne salon pehle kisi aur duniya se, kisi aur ke shabdon mein...par aisa lagta hai ki mere dil ki dhadkan hai jo in shabdon mein piroi hui hai...

    उत्तर देंहटाएं